शुक्रवार, अप्रैल 29, 2011

लाल घोड़ा

पोर्ट्रेट ऑफ़ चैम सूतीन, अमेदेओ मोद्ग्लियानी
Portrait Of Chaim Soutine, Amadeo Modigliani





झूठ के मेरी-गो-राउण्ड में
तुम्हारी मुस्कान का लाल घोड़ा
घूमता है
और वहां खड़ा रहता हूँ मैं पथराया 
सच का उदास चाबुक लिए
और मेरे पास कहने को कुछ भी नहीं है
तुम्हारी मुस्कान भी उतनी ही असली है
जितनी मेरी मजबूरियाँ



-- याक प्रेवेर 







याक प्रेवेर  ( Jacques Prévert )फ़्रांसिसी कवि व पटकथा लेखक थे. अत्यंत सरल भाषा में लिखी उनकी कविताओं ने उन्हें फ्रांस का विक्टर ह्यूगो के बाद का सबसे लोकप्रिय कवि बना दिया. उनकी कविताएँ अक्सर पेरिस के जीवन या द्वितीय विश्व युद्ध के बाद के जीवन के बारे में हैं. उनकी अनेक कविताएँ  स्कूलों के पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं व प्रसिद्ध गायकों द्वारा गायी गयी  हैं. उनकी लिखी पटकथाओं व नाटकों को भी खूब सराहा गया है. उनकी यह कविता उनके सबसे प्रसिद्द कविता संग्रह 'पारोल' से है.

इस कविता का मूल फ्रेंच से हिंदी में अनुवाद -- रीनू  तलवाड़

1 टिप्पणी:

  1. How wonderfully said...our awareness of illusion is also illusion...how can one illusion be better or judge better the other illusion.

    उत्तर देंहटाएं