बुधवार, अगस्त 03, 2011

बारिश

व्हीट फील्ड इन रेन, विन्सेंट वान गोग
Wheat Field In Rain, Vincent Van Gogh

एक शहर जो इतना जर्जर हो गया था
उसके आकाश में 
जब मैं अपना छाता खोलता हूँ
मैं पहुँच जाता हूँ उन गाँव के दिनों में 
उस लड़की के पास    
बारिश में झुकी हुई
धान रोपती हुई 
जो अचानक ही औरत बन गयी थी 
बारिश में खड़ी औरत   
अभी भी तन कर खड़ी हुई 

जिसने बार-बार कहा था   
एक आदमी से 
जिसका नाम वह नहीं जानती थी 
" भाग क्यों रहे हो?
      छाता क्यों लिया हुआ है?
लोह पुरुष को ही जंग लगता है बारिश में."


-- अली अब्दोलरेज़ेई


अली अब्दोलरेज़ेई ( Ali Abdolrezaei ) ईरान के कवि हैं. वैसे वे मेकैनिकल इंजीनियर  हैं, मगर 17वर्ष की आयु से ही वे कवि के रूप में पहचाने जाने लगे और जल्द ही क्रान्ति के बाद के ईरान के प्रसिद्द कवियों में गिने जाने लगे. ईरान में रहते हुए उनके 7संकलन ही प्रकाशित हो पाए. कड़ी सेंसर -व्यवस्था ने उनका ईरान में रहकर लिखना, पढ़ाना व सभाओं में बोलना, सब बंद कर दिया. 2002 में उन्होंने ईरान छोड़ दिया और अनेक देशों में भटक कर अंततः लंदन में  रहने लगे. उनकी लेखन शैली पारंपरिक फ़ारसी कविता से बहुत भिन्न है. उनकी कविताएँ अधिकतर वह व्यग्रता, अलगाव और कुछ खो जाने का दुःख दर्शाती हैं, जो की सभी विस्थापित ईरानियों को महसूस होता होगा. अब तक उनके 20 कविता-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं व उनका अनेक भाषाओँ में अनुवाद भी हो चुका है. 
इस कविता का मूल फ़ारसी से अंग्रेजी में अनुवाद अबोल फ्रुशान ने किया है.
इस कविता का हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़

3 टिप्‍पणियां:

  1. एक सुन्दर कविता का एक कल्पनाशील अनुवाद | धन्यवाद रेणु |

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया बाबुषा. इतवार के दिन ब्लाग और कविताओं को आपका इंतज़ार रहेगा.
    :-)

    उत्तर देंहटाएं