शनिवार, नवंबर 05, 2011

पटरी

लैंडस्केप नियर मोंमायूर विद ट्रेन, विन्सेंट वान गोग
Landscape Near Monmajour With Train, Vincent Van Gogh 

रात के 2 बजे :चांदनी. कहीं किसी 
खेत में रेलगाड़ी रुक गई है. 
किसी शहर की रोशनी की 
ठंडी दूरस्थ चिंगारियाँ 
क्षितिज पर टिमटिमा रही हैं.

जैसे कि जब एक आदमी 
अपने स्वप्न में इतने गहरे उतर जाता है 
कि वह कभी याद नहीं रख पायेगा 
कि वह वहां था 
जब वह वापिस अपने कमरे में लौटेगा.

या जब कोई व्यक्ति बीमारी में इतना धंस जाता है 
कि उसके सब दिन बन जाते हैं
कुछ झिलमिलाते शरारे, 
एक झुण्ड, क्षितिज पर ठंडा व क्षीण.

रेलगाड़ी एकदम स्थिर है.
2 बजे हैं: तेज़ चांदनी, कुछ सितारे.


-- तोमास त्रांसत्रोमर 




                               
तोमास त्रांसत्रोमर ( Tomas Tranströmer )स्वीडन के लेखक, कवि व अनुवादक हैं जिनकी कविताएँ न केवल स्वीडन में, बल्कि दुनिया भर में सराही गयीं हैं. उन्हें 2011 का नोबेल पुरुस्कार प्राप्त हुआ है. उन्होंने 13 वर्ष की आयु से ही लिखना शुरू कर दिया था. उनके 12 से अधिक  कविता संकलन प्रकाशित हो चुके हैं व उनकी कविताएँ लगभग 50 भाषाओँ में अनूदित की गईं हैं. उन्हें अपने लेखन के लिए अनेक सम्मान प्राप्त हुए है जिनमे इंटरनैशनल पोएट्री फोरम का स्वीडिश अवार्ड भी शामिल है. वे नोबेल प्राइज़ के लिए कई वर्षों से नामित किये जा रहे थे. लेखन के इलावा वे जाने-माने मनोवैज्ञानिक भी थे, जो कार्य उन्हें स्ट्रोक होने के बाद छोड़ना पड़ा. उनका एक हाथ अभी भी नहीं चलता है, मगर दूसरे हाथ से वे अब भी लिखते हैं. यह कविता उनके अंग्रेजी में अनूदित संकलन ' द हाफ -फिनिश्ड हेवन ' से है.

इस कविता का मूल स्वीडिश से अंग्रेजी में अनुवाद उनके अभिन्न मित्र व अंग्रेजी के प्रख्यात कवि रोबेर्ट ब्लाए ने किया है.
इस कविता का हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़ 

1 टिप्पणी:

  1. बहुत अच्छा अनुवाद | ये अवश्य होता है के जब हम किसी के विचारों को मन लगाकर पढ़ते हैं तो वो व्यक्तिव अपना कुछ अंश हमारे व्यक्तित्व में जोड़ देता है |

    उत्तर देंहटाएं