मंगलवार, अप्रैल 17, 2012

आओ एक-दूसरे को छू लें

हियर वी मेक लव, पॉल गोगें
Here We Make Love, Paul Gauguin


आओ एक-दूसरे को छू लें
जब तक हैं हमारे पास हाथ,
हथेलियाँ, बाहें, कुहनियाँ...
आओ दुःख के लिए
एक-दूसरे को प्यार कर लें,
एक-दूसरे को यातना दें, यंत्रणा दें,
कुरूप कर दें, अपंग कर दें,
बेहतर याद रखने के लिए,
बिछड़ने के लिए कम पीड़ा के साथ.



-- वेरा पाव्लोवा



 वेरा पाव्लोवा ( Vera Pavlova ) रूस की सबसे प्रसिद्द समकालीन कवयित्री हैं. उनका जन्म मॉस्कोमें हुआ था. उन्होंने संगीत की शिक्षा ग्रहण की व संगीत के इतिहास विषय में विशेषज्ञता प्राप्त की. कुछ समय बाद ही उनकी कविताएँ प्रकाशित हुई और उन्होंने अपने साहित्यिक जीवन का आरम्भ किया. उनके 14 कविता-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं व रूस में उनकी किताबें खूब बिकती हैं. उन्होंने चार ओपेरा लिबेरेतोज़ के लिए संगीत लिखा है व कुछ बोल भी. उनकी कविताएँ 18भाषाओँ में अनूदित की गयी हैं. यह तीन कविताएँ उनके अंग्रेजी में अनूदित संकलन 'देयर इज समथिंग टू डिज़ायर' से हैं.
इन कविताओं का मूल रशियन से अंग्रेजी में अनुवाद स्टीवन सेमूर ने किया है.

इन कविताओं का हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़

2 टिप्‍पणियां:

  1. वेरा मुझे बहुत पसंद हैं... समुद्र पार के शायरों में शायद सबसे ज्यफा इन्ही को पढ़ा है मैंने.. :) नज़्म के आखिरी मिसरों से बशीर बद्र याद आ रहे हैं..

    बिछड़ते वक्त कोई बदगुमानी दिल में आ जाती
    तुम्हे भी गम नहीं होता मुझे भी गम नहीं होता

    उत्तर देंहटाएं