शनिवार, मई 19, 2012

आँखें

 सेल्फ-पोर्ट्रेट इन फेल्ट हैट, पॉल सेज़ान
Self-Portrait in Felt Hat, Paul Cezanne



जिस दिन उसकी प्रियतमा की मृत्यु हुई
उसने बूढ़े होने का फैसला कर लिया
और कर लिया स्वयं को बंद
अकेले, खाली घर के अन्दर
केवल उसकी यादों के साथ
और उस बड़े उजले आईने के साथ
जिस में देख कर वह अपने बाल बनाती थी.
इस सोने के बड़े से खंड को
वह एक लोभी की तरह सहेजता-बटोरता था,
सोचता था, कि कम-से-कम यहाँ तो
वह कैद कर लेगा बीते दिनों को,
सुरक्षित रख लेगा इस एक चीज़ को.

मगर पहली बरसी के आस-पास,

वह उसकी आँखों के बारे में सोचने लगा
और घबरा गया : वे भूरी थीं या काली,
या धूसर? हरी? हे भगवान! कह नहीं सकता....

वसंत की एक सुबह, उसके भीतर कुछ दरक गया;

अपने दोहरे दुःख को सलीब की तरह कंधे पर उठाये,
उसने बाहर का दरवाज़ा बंद किया, सड़क पर आया
और अभी दस गज भी न चला था कि एक अँधेरे प्रांगण से
उसे मिली एक जोड़ी आँखों की झलक. अपना हैट
नीचे खींच वह आगे बढ़ गया...हाँ, वे ऐसे ही थीं; ऐसी ही...



-- डान पेटरसन




डान पेटरसन ( Don Paterson ) स्कॉटलैंड के कवि,लेखक  व संगीतकार हैं. वे यूनिवर्सिटी ऑफ़ सेंट एंड्रूज़ में अंग्रेजी पढ़ाते हैं, लन्दन के प्रकाशक 'पिकाडोर' के लिए पोएट्री एडिटर हैं और एक बेहतरीन जैज़ गिटारिस्ट हैं . अपने पहले कविता संकलन 'निल निल' से ही उन्हें पहचाना जाने लगा व अवार्ड मिलने लगे. अपने संकलन ' गाडज़ गिफ्ट टू विमेन ' के लिए उन्हें टी एस एलीअट प्राइज़ प्राप्त हुआ. उनके एक और संकलन 'लैंडिंग लाईट ' को विटब्रेड पोएट्री अवार्ड व फिर से टी एस एलीअट प्राइज़ प्राप्त हुआ. उन्होंने दूसरी भाषाओँ से अंग्रेजी में बहुत अनुवाद भी किया है जिन में से सबसे उल्लेखनीय स्पेनिश कवि अंतोनियो मचादो व जर्मन कवि रिल्के की रचनाएँ हैं. उन्होंने कई कविता संकलनों का संपादन किया है, नाटक लिखे हैं व विशेष रूप से रेडियो नाटक लिखे हैं. यह कविता उनके संकलन 'आईज ' से है, जिसे  स्पेनिश कवि अंतोनियो मचादो की कविताओं का अनुवाद भी कहा जा सकता है, या कहा जा सकता है की ये कविताएँ, उनकी कविताओं से प्रेरित हैं.

इस कविता का मूल अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़
 

5 टिप्‍पणियां:

  1. इसे पढकर मुझे अपने दादा दादी की याद आ गयी.दादी की मौत के साल भर बाद ही दादाजी की भी मृत्यु हो गयी.जिसके साथ जीवन का बहुत लंबा समय गुजारा हो उसके बिना जीना कठिन हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत मुश्किल होता है किसी की याद में ज़िंदगी गुजार देना ! धीरे-धीरे हरेक अलाव ठंडा पड़ जाता है और हम चल देते हैं एक दूसरे अलाव की खोज में !
    बहुत अच्छी कविता ! इसके सुंदर अनुवाद के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ ,समय हर ज़ख्म भर देता है और मिल जाती है एक प्रतिछवि जिसके आकर्षण में मन फिर बँधने लगता है ,मानव स्वभाव है वह नहीं रह सकता बंधनरहित !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं