गुरुवार, अप्रैल 21, 2011

लहर

सीस्केप एट सैंत मारी, विन्सेंट वान गोग
Seascape At Saintes Maries, Vincent Van Gogh




खालिदा 
एक दुःख 
जिसके आस-पास 
पत्तों भरी टहनियाँ उग आती हैं 
खालिदा
एक सफ़र 
जो आँखों के पानी में 
डुबो देता है दिन को 
एक लहर 
जिसने सिखाया है मुझे 
कि सितारों की रोशनी
बादलों के चेहरे 
धूल की आहें 
सब एक ही फूल के नाम हैं 

-- अदुनिस 


Adonis, Griffin Poetry Prize 2011 International Shortlist  अली अहमद सईद अस्बार ( Ali Ahmed Said Asbar ), जो 'अदुनिस' ( Adonis )के नाम से लिखते हैं, सिरिया के प्रसिद्ध कवि व लेखक हैं. वे आधुनिक अरबी कविता के पथप्रदर्शक हैं, जिन्होंने पुरानी मान्यताओं से विद्रोह कर कविता के अपने ही नियम बनाये हैं. अब तक वे अरबी में उनकी 20से अधिक किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं. उनके अनेक कविता संग्रह अंग्रेजी में अनूदित किये जा चुके हैं. उन्हें जल्द ही नोबेल प्राइज़ भी मिलेगा , साहित्य जगत में इसकी उम्मीद व अटकलें खूब हैं, वे कई बार नामित भी किये गए हैं.

'लहर' कविता का अनुवाद मूल अरबी से अंग्रेजी में कमाल अबु दीब ने किया है.
इस कविता का हिन्दी में अनुवाद -- रीनू  तलवाड़

1 टिप्पणी:

  1. बहुत ही खूबसूरत चयन, अनुवाद और प्रयास...रीनुजी आपने तो पानी में गोते लेकर उन सभी नदियों पर गुजरने के लिए पुल बना दिए जिनको पार करने की हमारी क्षमता नहीं थी... आशा है नए-नए पुल का निर्माण होगा और लहरों का बहाव पाँव भिगोता रहेगा...
    बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाये...

    उत्तर देंहटाएं