शनिवार, अगस्त 13, 2011

नाम

द स्ट्रौलर, क्लौद मोने
The Stroller, Claude Monet

ऐसा कब हो गया कि तुम्हारा नाम
एक व्यक्तिवाचक संज्ञा से बदल कर 
बन गया एक मन्त्र?

उसके तीन स्वर 
मोतियों की तरह 
मेरी साँसों के धागे में पिरोए हुए.

उसके व्यंजन 
एक चुम्बन की तरह 
हौले से मेरे होंठों को छूते हुए.

मुझे प्यार है तुम्हारे नाम से.
उसे बार बार बोलती हूँ मैं 
इस गर्मियों की बारिश में.

उसे छुपे हुए देखती हूँ मैं
वर्णमाला में,
एक चाह की तरह.

प्रार्थना की तरह 
रात में उसे करती हूँ मैं 
जब तक हल्के न हो जाएँ उसके अक्षर.

मैं सुनती हूँ तुम्हारे नाम की लय को 
मिलते हुए, मिलते हुए
मिलते हुए हर चीज़ की लय से.


-- कैरल एन डफ्फी


  कैरल एन डफ्फी ( Carol Ann Duffy )स्कॉट्लैंड की कवयित्री व नाटककार हैं. वे मैनचेस्टर मेट्रोपोलिटन युनिवेर्सिटी में समकालीन कविता की प्रोफ़ेसर हैं. 2009 में वे ब्रिटेन की पोएट लॉरीअट नियुक्त की गईं. वे पहली महिला व पहली स्कॉटिश पोएट लॉरीअट हैं. उनके स्वयं के कई कविता संकलन छ्प चुके हैं. उन्होंने कई कविता संकलनों को सम्पादित भी किया है. अपने लेखन के लिए उन्हें अनेक सम्मान व अवार्ड मिल चुके हैं. सरल भाषा में लिखी उनकी कविताएँ अत्यंत लोकप्रिय हैं व स्कूलों के पाठ्यक्रम का हिस्सा भी हैं. यह कविता उनके 2005 में छपे संकलन ' रैप्चर ' से है, जिसे टी एस एलीअट प्राइज़ मिला था.

इस कविता का मूल अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़  

4 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे प्यार है तुम्हारे नाम से.
    उसे बार बार बोलती हूँ मैं
    इस गर्मियों की बारिश में.

    उसे छुपे हुए देखती हूँ मैं
    वर्णमाला में,
    एक चाह की तरह.

    sundar..bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रीनू जी | नाम जब मन्त्र बन जाता है तो प्रेमी या प्रेमिका का मंत्रमुग्ध होना निश्चित है | धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं