मंगलवार, नवंबर 29, 2011

मेरा हाथ

बॉय बाय द वाटर, पॉल गोगें
Boy By The Water, Paul Gauguin

देखो इस पल में 
बीता कल कैसे समाप्त नहीं हुआ 
वह जागृत है हर समय 
कभी प्रतीक्षा न करता हुआ 
अब वह मेरा हाथ है 
मगर वह नहीं जो मैंने पकड़ा था
वह मेरा हाथ नहीं 
मगर वह है जो मैंने पकड़ा था 
वह है, वह जो मैं याद रखता हूँ 
मगर वह कभी 
एकदम वैसा नहीं प्रतीत होता 
कोई और उसे याद नहीं रखता 
एक घर जिसे बहुत समय पहले 
हवा निगल गयी थी 
ईंट की सड़क पर पहियों की आवाज़
एक गायब हो चुके कमरे की ठंडी रोशनी 
रंगबिरंगे पंछी की एक झलक 
एक जीवन और दूसरे के बीच 
वह नदी जो एक बच्चा देखा करता था.


-- डब्ल्यू एस मर्विन

W.S. Merwinडब्ल्यू एस मर्विन ( W S Merwin )अमरीकी कवि हैं व इन दिनों अमरीका के पोएट लॉरीअट भी हैं.उनकी कविताओं, अनुवादों व लेखों के 30 से अधिक संकलन प्रकाशित हो चुके हैं .उन्होंने दूसरी भाषाओँ के प्रमुख कवियों के संकलन, अंग्रेजी में खूब अनूदित किये हैं, व अपनी कविताओं का भी स्वयं ही दूसरी भाषाओँ में अनुवाद किया है.अपनी कविताओं के लिए उन्हें अन्य सम्मानों सहित पुलित्ज़र प्राइज़ भी मिल चुका है.वे अधिकतर बिना विराम आदि चिन्हों के मुक्त छंद में कविता लिखते हैं.यह कविता उनके संकलन 'द शैडो ऑफ़ सिरिअस ' से है.

इस कविता का मूल अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़ 

4 टिप्‍पणियां: