बुधवार, जून 27, 2012

पार देखना सीखो

अलोन, पॉल गोगैं
Alone, Paul Gauguin
सीखो पार देखना,
पहले जुदा हो, आगे बढ़ जाना.
आँसू, लार, वीर्य
नहीं हैं अकेलेपन के विलायक.
शादी के सुनहरे कटोरों पर
या वेश्या के प्लास्टिक कप पर,
अगर अनुभवी हो आँख,
देख सकती है
अकेलेपन के कसैले अवशेष. 



-- वेरा पाव्लोवा 




वेरा पाव्लोवा ( Vera Pavlova ) रूस की सबसे प्रसिद्द समकालीन कवयित्री हैं. उनका जन्म मॉस्कोमें हुआ था. उन्होंने संगीत की शिक्षा ग्रहण की व संगीत के इतिहास विषय में विशेषज्ञता प्राप्त की. कुछ समय बाद ही उनकी कविताएँ प्रकाशित हुई और उन्होंने अपने साहित्यिक जीवन का आरम्भ किया. उनके 14 कविता-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं व रूस में उनकी किताबें खूब बिकती हैं. उन्होंने चार ओपेरा लिबेरेतोज़ के लिए संगीत लिखा है व कुछ बोल भी. उनकी कविताएँ 18भाषाओँ में अनूदित की गयी हैं. यह कविता उनके अंग्रेजी में अनूदित संकलन 'देयर इज समथिंग टू डिज़ायर' से है.
इस कविता का मूल रशियन से अंग्रेजी में अनुवाद स्टीवन सेमूर ने किया है.
इस कविता का हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़

2 टिप्‍पणियां:

  1. अपने अकेलेपन में भी बहुतों का साथ है लेकिन उसे देखने के लिए अनुभवी आँख चाहिए !............. बहुत गंभीर कविता ! सुंदर अनुवाद ! बधाई रीनू जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. देखने से परे महसूस करने की और आदमी के अकेलेपन की नियति को परिभाषित करती गूढ़ कविता.

    उत्तर देंहटाएं