रविवार, नवंबर 18, 2012

पियानो

मिसेज़ मेगज़ एट द पियानो ऑर्गन, विलियम मेरिट चेज़
Mrs. Meigs at the Piano Organ, William Merritt Chase



पियानो बजा रही हूँ: दुनिया की ओर पीठ है मेरी.
पियानो बजा रही हूँ: एक ऊंची दीवार के पीछे.
पियानो बजा रही हूँ: जैसे हो खदान में उतरना,
या अधिक पी कर रंगरली मनाना,
साथ किसी को भी न ले जाना.


-- वेरा पाव्लोवा 




 वेरा पाव्लोवा ( Vera Pavlova) रूस की सबसे प्रसिद्द समकालीन कवयित्री हैं. उनका जन्म मॉस्कोमें हुआ था. उन्होंने संगीत की शिक्षा ग्रहण की व संगीत के इतिहास विषय में विशेषज्ञता प्राप्त की. कुछ समय बाद ही उनकी कविताएँ प्रकाशित हुई और उन्होंने अपने साहित्यिक जीवन का आरम्भ किया. उनके 14 कविता-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं व रूस में उनकी किताबें खूब बिकती हैं. उन्होंने चार ओपेरा लिबेरेतोज़ के लिए संगीत लिखा है व कुछ बोल भी. उनकी कविताएँ 18भाषाओँ में अनूदित की गयी हैं. यह कविता उनके अंग्रेजी में अनूदित संकलन 'लेटर्ज़ टू अ रूम नेक्स्ट डोर : 1001 कन्फेशंज़ ऑफ़ लव ' से है.

इस कविता का मूल रशियन से अंग्रेजी में अनुवाद स्टीवन सेमूर ने किया है.
इस कविता का हिंदी में अनुवाद -- रीनू तलवाड़

1 टिप्पणी:

  1. पियानो की सुर लहरियां जैसे कोई सीढियां हों खुद के एकांत में उतरती हुई ,जहाँ अपने सिवा कोई न हो !
    खूबसूरत कविता !
    सुन्दर अनुवाद के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं