शनिवार, जुलाई 06, 2013

लौकिक स्वांग

बैक, आंद्रे देरैं
Back, Andre Derain



देह को याद है                           प्रेम भूल जाता है 
प्रेम का अर्थ चले जाना है           देह का अर्थ आना है 
प्रेम का अर्थ कल्पना करना है    देह का अर्थ पगला जाना है 
प्रेम, एक लौकिक स्वांग 
                                    ताकि अनंतता फैली रहे
                                    ताकि हम अपनी दुविधा शांत कर सकें 



-- अदुनिस




Adonis, Griffin Poetry Prize 2011 International Shortlist अली अहमद सईद अस्बार ( Ali Ahmed Said Asbar ), जो 'अदुनिस' ( Adonis )के नाम से लिखते हैं, सिरिया के प्रसिद्ध कवि व लेखक हैं. वे आधुनिक अरबी कविता के पथप्रदर्शक हैं, जिन्होंने पुरानी मान्यताओं से विद्रोह कर कविता के अपने ही नियम बनाये हैं. अब तक अरबी में उनकी 20से अधिक किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं. उनके अनेक कविता संग्रह अंग्रेजी में अनूदित किये जा चुके हैं. अभी हाल-फिलहाल में, अगस्त माह के आखिरी सप्ताह में ही उन्हें 2011 के  गेटे ( Goethe) पुरुस्कार से सम्मानित किया गया. उन्हें जल्द ही नोबेल प्राइज़ भी मिलेगा , साहित्य जगत में इसकी उम्मीद व अटकलें खूब हैं, वे कई बार नामित भी किये गए हैं. यह कविता उनके 2003 के संकलन 'सिंग्युलर इन अ प्लूरल फॉर्म' से है.
इस कविता का मूल अरबी से अंग्रेजी में अनुवाद खालेद मत्तावा ने किया है.
इस कविता का हिन्दी में अनुवाद -- रीनू  तलवाड़

1 टिप्पणी:

  1. प्रेम की दैहिक और कल्पनाशील यात्रा के अंत की सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं